हमारे पास न सुख है न ही शांति है
दोस्तों हमने सब कुछ प्राप्त कर लिया फिर भी न जाने क्यों हमारे पास न सुख है न ही शांति है हम सब कुछ पाकर भी हमेशा चिंतित रहते हैं क्यों शायद हमें वह नहीं मिला जिसकी हमें तलाश है जिस से हमारे जीवन में सुख शांति का आभाव समाप्त हो जाये।
दोस्तों हम अपने जीवन में शांति आनंद प्राप्त कर सकते हैं यदि हम अपने दुख दर्द चिंता का निवारण करने का प्रयास करें उन्हें कुछ समय बाद भूल कर आगे बढ़ने का प्रयास करें बिना कारण चिंतित होकर अपना समय बरबाद न करें चिंता से किसी भी समस्या का समाधान संभव नहीं है।



दोस्तों हर व्यक्ति के जीवन में कोई न कोई परेशानी जरूर होती है उनके होने का कुछ कारण जरुर होता है हमें उसे जानकर उसका समाधान करना चाहिए तभी हम अपने जीवन को आनंदमय सुखमय बना सकते हैं।
दोस्तों हमें अपने जीवन में आनंद लाने के लिए आरोप प्रत्यारोपों  से दूर निकलना चाहिए हमें दूसरे व्यक्ति में सद्बुद्धि आने का इंतजार और प्रयास करना चाहिए तभी हम अपने जीवन में खुशहाली ला सकते हैं।
दोस्तों यह हमारी प्रवृत्ति है जब हमसे कोई गलती होती है तो हम दूसरों पर दोषारोपण करने का प्रयास करते हैं हम अपनी गलती देखने का प्रयास नहीं करते हैं इसलिए हमें सफलता प्राप्त नहीं होती है न ही हमारे रिश्ते किसी के साथ मधुर रहते हैं।
दोस्तों जब हम स्वयं गलती करते हैं और दूसरों को दोषी ठहराने का प्रयास करते हैं उसके लिए बुरा होने की कामना करते हैं यह हमारी कुंठित सोच हमें ही अपनी सफलता से बहुत दूर ले जाती है हम चाहकर भी कामयाबी से बहुत दूर रहते हैं।
दोस्तों हमें इस सत्य को हमेशा याद रखना चाहिए अच्छे व्यक्ति भी बुरा काम करते हैं और बुरे व्यक्ति भी अच्छा काम करते हैं हमें किसी के लिए पूर्वग्रह से ग्रसित होकर कोई सोच नहीं बनाना चाहिए वरना हम सत्य से हमेशा दूर रहेंगे।
दोस्तों यदि कोई हमारे साथ कुछ गलत करता है हम भी उसके साथ गलत करते हैं तो इस से हमारा ही नुकसान होता है हमें गलती को सुधारना चाहिए तभी हम अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं।
दोस्तों यदि हम किसी के बारे में कोई राय बनाते हैं तो उस से हमारे बारें में भी राय बनती है इसलिए हमें सोच समझकर किसी के लिए कोई राय बनाना चाहिए जल्द बाजी में हमारी राय गलत होती है।

दोस्तों यदि कोई व्यक्ति परपंरागत सोच से ग्रसित से तो उसमें परिवर्तन करना बहुत मुश्किल कार्य है इसके लिए हम धैर्य के साथ समझाने का प्रयास करें तो हम अपना नजरिया समझा सकते हैं।
दोस्तों हम सब हमेशा किसी अनचाहे भय से ग्रसित होकर सतर्क रहने का प्रयास करते हैं यह भय हमारी सोच के कारण होता है इस भय के कारण हम अपने जीवन में आनंद खुशी का मजा नहीं ले पाते हैं।
दोस्तों बिना मेहनत के मिली सफलता का कोई महत्व नहीं है दोस्तों ऐसी सफलता कभी भी स्थाई नहीं होती है।
दोस्तों साहसी व्यक्ति इस बात को महत्व नहीं देते उनके शत्रु कितने हैं वह इस बात को महत्व देते हैं वह कहां पर है।
दोस्तों हमें बिना किसी अफसोस के साथ अपने गुजरे वक्त का सामना करना चाहिए हमें अपने वर्तमान को आत्मविश्वास के साथ संवारना चाहिए बिना किसी भय के हमें आने वाले वक्त की तैयारी करना चाहिए।
दोस्तों हमें सच्चा आनंद प्यार तभी मिल सकता है जब हम अपने स्वार्थ को त्याग कर सत्य की राह पर चलते हैं।
दोस्तों हमारे जीवन में सुख प्राप्ति के लिए जितनी जरूरत हो उतनी मात्रा में चीज़ों का भंडारण होना चाहिए हर चीज़ की अधिकता हमारे लिए हानिकारक होती है।
दोस्तों हम स्वयं जिम्मेदार होते हैं अअपने उत्थान व पतन के लिए इसके लिए अन्य व्यक्तियों पर आरोप लगाना हमारी मूर्खता का प्रदर्शन है।
दोस्तों हमें स्वयं को हीन कदापि नहीं समझना चाहिए हम दृढ़ इच्छाशक्ति से हर पथ पर कामयाबी प्राप्त कर सकते हैं।
दोस्तों यदि हम एक बार संकल्प के साथ कदम उठाते हैं तो आगे की राह अपने आप आसान हो जाती है।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.