श्रद्धा विश्वास से सब कुछ संभव
दोस्तों कोटा के एक गाँव में एक वर्ष बरसात नहीं हुई ऐसा लगा वरुण देवता नाराज हो गये सब जगह बस परेशानी नजर आ रही थी हर किसान परेशान था उन सबको चिंता थी बिना बरसात के खेती कैसे करेंगे अकाल जैसी परिस्थिति पैदा हो गई सब चिंता से ग्रसित थे सब सोच नहीं पा रहे थे वह करें तो क्या करें।
दोस्तों गांव के बहार एक साधु महाराज रहते थे जिन पर सब विश्वास करते थे जब भी कोई विपत्ति आती सब वहां जाकर समाधान कर लेते थे सब ने सोचा अब तो साधु महाराज का सहारा है सब मिलकर साधु महाराज के पास पहुँच गये सबने अपनी परेशानी महाराज को बिताई महाराज ने शांति से उनकी बातचीत सुनी सब उन से उपाय बताने का अनुरोध करने लगे।



साधु महाराज तैयार हो गये उन्हें उपाय बताने के लिए उन्होंने उपाय बताने से पहले सब से सवाल किया क्या आप सब परमात्मा पर यकीन रखते हो सबने एक आवाज में कहां हां तो हम सब मिलकर कल भगवान से बरसात के लिए प्रार्थना करेंगे। आप सब के मन में इतनी श्रद्धा होना चाहिए परमात्मा हमारी बात सुन लेगें आप सब को परमात्मा पर विश्वास है ना सभी ने कहां हां महाराज तो कल सब को गांव के बड़े शिव मंदिर पर आना है हम सब मिलकर ईश्वर से प्रार्थना करेंगे।
सभी गांव वाले समय पर शिव मंदिर में उपस्थित हो गये महाराज के साथ सभी ने परमात्मा से बरसात के लिए प्रार्थना 🙏 की बहुत देर तक प्रार्थना 🙏 करने के बाद बरसात नहीं हुई तो सभी परेशान व अधीर हो गये। सब परेशान होकर महाराज के पास गये और कहने लगे आपके आदेश अनुसार हमने प्रार्थना की पर बरसात नहीं हुई सब परेशानी महाराज की जवाब का इतंजार करने लगे महाराज खामोशी से कुछ सोचने में व्यस्त थे।

साधु महाराज ने गंभीरता से सवाल किया आप सब जब मंदिर आ रहे थे कितने व्यक्ति छाता लेकर आये सब खामोश थे किसी के पास कोई जवाब नहीं था कोई भी छाता लेकर नहीं आया था महाराज बोले इससे पता चलता है तुम लोगो को ईश्वर पर श्रद्धा नहीं है तुम्हें विश्वास नहीं था बरसात होगी।

आपके मन में यहां आते समय अपने ईश्वर पर श्रद्धा अपनी प्रार्थना पर विश्वास होता तो बरसात जरूर होती आप सब को विश्वास होता तो आप छाता जरूर लेकर आते आप सबकी परमात्मा पर श्रद्धा थी ही नहीं होती तो छाता लेकर आते और बरसात भी होती। 

जब मन में श्रद्धा ही नहीं तो उसका फल कैसे मिलेगा साधु महाराज की बात सुनकर सबकी शर्म से गरदन झुक गए सब खामोशी के साथ निराश भाव से चले गयें उन सब को अपनी गलती का अहसास था दोस्तों हम अपने परमात्मा पर श्रद्धा विश्वास रखें तो सब कुछ संभव है भगवान पर विश्वास रखना परमावश्यक है तभी हम अपनी परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.